हैस्ब्रो इलेक्ट्रॉनिक युद्धपोत

मेगा मैन 2 बाघ हाथ में करीब 70 फीसदी दिल्लीवासियों को है कोविड-19 का खतरा, सर्वे मे

करीब 70 फीसदी दिल्लीवासियों को है कोविड-19 का खतरा, सर्वे में हुआ खुलासा

Coronavirus Pandemic: मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज के साथ मिल कर दिल्ली सरकार की तरफ से किए गए दूसरे सिरो सर्वे की रिपोर्ट आ गई है। रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में करीब 29.1 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडीज पाई हैमेगा मैन 2 बाघ हाथ में, जबकि पहले सर्वे में करीब 22 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडीज पाई गई थी। इसका अर्थ यह है कि दिल्ली में 29.1 प्रतिशत यानि करीब 59 लाख लोग कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो चुके हैंमेगा मैन 2 बाघ हाथ में, लेकिन अभी भी करीब 70 प्रतिशत से अधिक लोगों में कोरोना के संक्रमण का खतरा बना हुआ है। (Coronavirus Pandemic in Delhi) Also Read - दुनियाभर में केवल 10 प्रतिशत युवाओं को ही हुआ कोविड संक्रमणमेगा मैन 2 बाघ हाथ में, WHO ने बताया 20 वर्ष से कम उम्र वाले महामारी से अब तक सुरक्षित

इस सर्वे के बारे में बात करते हुएमेगा मैन 2 बाघ हाथ में, दिल्ली के हेल्थ मिनिसिटर सतेंद्र जैन ने कहामेगा मैन 2 बाघ हाथ में, सर्वे में 18 वर्ष से कम आयु के 25 प्रतिशत, ओरेगन ट्रेल इलेक्ट्रॉनिक गेम 18 से 50 वर्ष के 50 और 50 वर्ष से उपर के 25 प्रतिशत लोगों को शामिल किया गया था। इनमें करीब 28.3 प्रतिशत पुरुषों और 32.2 प्रतिशत महिलाओं में एंटीबॉडीज मिली है। अगले महीने की एक तारीख से फिर से सर्वे शुरू किया जाएगा। (Covid-19 in Delhi) Also Read - भारत में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविड वैक्सीन का ट्रायल फिर से शुरू, DCGI ने दी अनुमति

करीब 70 फीसदी दिल्लीवासियों को है खतरा:

गौरतलब है कि यह दिल्ली में दूसरा सिरोलॉजिक सर्वे है। सतेंद्र जैन ने कहा, इसके लिए एक अगस्त से 7 अगस्त तक सैंपल लिए गए थे। इसकी रिपोर्ट आ गई है। पहले सिरोलॉजिकल सर्वे में 22 प्रतिशत लोगों ने एंटीबॉडीज पाई गई थी। एंटीबॉडीज का अर्थ यह है कि यह लोग कोरोना से संक्रमित होकर अब ठीक हो चुके हैं। इस बार दिल्ली के अंदर सिरोलॉजिकल सर्वे में 29.1 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडीज पाई गई है। यदि दिल्ली की आबादी 2 करोड़ मान लें, तो इसके मुताबिक करीब 59 लाख लोगों में एंटीबॉडीज बन चुकी हैं और वो लोग कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो चुके हैं। (Covid-19 in Delhi) Also Read - कितने अलग होते हैं फ्लू और कोविड-19 के लक्षण? जानें दोनों के बीच का अंतर

स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने कहा, यह सर्वे पूरी दिल्ली की आबादी को ध्यान में रख कर किया गया है। दिल्ली की आबादी करीब 2 करोड़ है और उसी के मुताबिक सर्वे किया गया है। इस सर्वे में करीब 15 हजार सैंपल लिए गए थे। सर्वे में शामिल लोगों के 4 आयु वर्ग बनाए गए थे। 18 वर्ष से कम आयु वर्ग के 25 प्रतिशत लोगों को लिया गया। 18 से 50 वर्ष के आयु वर्ग के 50 प्रतिशत और 50 से उपर के आयु वर्ग के 25 प्रतिशत लोगों को लिया गया। अच्छी बात यह है कि 29 प्रतिशत लोग कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो चुके हैं, लेकिन अभी लोग हार्ड इम्युनिटी के स्तर तक नहीं पहुंचे हैं,मेगा मैन 2 बाघ हाथ में इसलिए जो लोग अभी बचे हुए हैं, उनको कोरोना के संक्रमण का डर बरकरार है।

50 साल से अधिक उम्र के 31 फीसदी लोगों को ख़तरा:

दिल्ली सरकार को सीरो सर्वे को कोरोना महामारी की रोकथाम के लिहाज से मददगार मान रही हैं। उनके अनुसार,  इस सर्वे से कम से कम यह पता चल पा रहा है कि दिल्ली में कितने प्रतिशत लोग कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो चुके हैं। सर्वे के अनुसार-

दिल्ली में अभी करीब 70 प्रतिशत से अधिक लोग हैं, जिनमें अभी तक हार्ड इम्युनिटी नहीं बनी है।  करीब 28.3 प्रतिशत पुरुष  और 32.2 प्रतिशत महिलाओं में एंटीबॉडीज मिली है। 18 वर्ष से कम उम्र वालों में एंटीबॉडीज का प्रसार सबसे ज्यादा 34.7 प्रतिशत मिला है। वहीं, 18 से 50 साल के लोगों में 28.5 और 50 साल से उपर वालों में 31.2 प्रतिशत प्रसार मिला है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, वैज्ञानिक बता रहे हैं कि शरीर में एंटीबॉडीज तीन-पांच महीनों से लेकर 7-8 महीने तक काफी संख्या में रहती हैं। इसके बाद धीरे-धीरे कम होनी शुरू हो जाती है। लेकिन इसके साथ ही शरीर में टी-सेल्स भी बनते हैं। टी-सेल्स का जीवन काफी लंबा होता है। इन्हें मेमोरी सेल भी कहते हैं। इसलिए अगर आपको एक बार कोरोना हो गया तो बहुत ही कम संभावना है कि आपको दोबारा कोरोना होगा।

Published : August 20, 2020 4:16 pm Read Disclaimer Comments - Join the Discussion अंतरिक्ष में मौजूद बादल से आती रहस्मयी धड़कन, वैज्ञानिकों ने सुनी आवाजअंतरिक्ष में मौजूद बादल से आती रहस्मयी धड़कन, वैज्ञानिकों ने सुनी आवाज अंतरिक्ष में मौजूद बादल से आती रहस्मयी धड़कन, वैज्ञानिकों ने सुनी आवाज चाय पीने वालों का दिमाग करता है दूसरों से बेहतर काम, रिसर्च का दावाचाय पीने वालों का दिमाग करता है दूसरों से बेहतर काम, रिसर्च का दावा चाय पीने वालों का दिमाग करता है दूसरों से बेहतर काम, रिसर्च का दावा ,,
 

随机文章

相关站点

友情链接

Powered by हैस्ब्रो इलेक्ट्रॉनिक युद्धपोत @2018 RSS地图 html地图